37 C
लखनऊ, उ.प्र.
17/04/2024
वंदे भारत | ख़ास खबरें | उत्तर प्रदेश
पॉलिटिक्सयू.पी. न्यूज़वीडियोसंपादकीयसुर्खियांसुल्तानपुर न्यूज़

सुल्तानपुर में पूर्व विधायक देवमणि के बोल, निर्णय में देरी विकट दलाली, आधे अधूरे निर्णय से हमें बचने की जरूरत, अयोध्या में 22 जनवरी का आयोजन 15 अगस्त 26 जनवरी से कम नहीं।

Report: आशुतोष मिश्र सुल्तानपुर 9415049256, Place: Sultanpur

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के जन्मदिन/सुशासन दिवस के मौके पर पूर्व विधायक देवमणि द्विवेदी ने कटाक्ष किया कि निर्णय में देरी विकेट दलाली है। सुशासन दिवस पर अंतरराष्ट्रीय मंच और विचारकों ने बहुत ही बेहतरीन टिप्पणी की है। अयोध्या में 22 जनवरी को आयोजित पीएम मोदी की मौजूदगी में कार्यक्रम हमारे राष्ट्रीय त्योहार 15 अगस्त और 26 जनवरी से काम नहीं है।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के जन्मदिन को सुशासन दिवस के रूप में मनाने का पूर्व विधायक देवमणि द्विवेदी ने आवाहन किया। सुशासन के लिए उन्होंने त्वरित निर्णय लिए जाने का आवाहन किया योगी सरकार से। सुल्तानपुर आगमन के दौरान उन्होंने कृषि रत्न राम कीरत मिश्र निवासी आरडीह ब्लाक दूबेपुर को सम्मानित किया। पूर्व विधायक देवमणि ने नरेंद्र देव कृषि विद्यालय से मिले किसान सम्मान पत्र का अवलोकन किया और माला पहनकर कृषि रन का वैज्ञानिक खेती करने के लिए स्वागत किया। इस मौके पर विनय कुमार सिंह, पूर्व प्रधान अरविंद वर्मा, मंडल महामंत्री दूबेपुर संतोष सिंह, सेक्टर संयोजक दिनेश वर्मा, भिभांशू, धर्मवीर, विनोद सोनी, शिवपूजन विश्वकर्मा समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

22 जनवरी को अयोध्या में आयोजित भव्य कार्यक्रम 15 अगस्त और 26 जनवरी के तुल्य है। हमारे भी जितने भी सनातनी, सामाजिक और राष्ट्रीय पर्व है। इन सबका यह समवेत सामूहिक पर्व है। पहले दीपावली को भगवान राम ने रावण पर विजय प्राप्त की थी और दूसरी भगवान के स्थापित होने की यह नव दीपावली है। घर-घर दीप जलाना है। यह हमारी होली, दीपावली, रक्षाबंधन और दशहरा का समेकित रूप है। हमारे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने विश्व के सुशासन मानक को भारत की धरती पर उतरने का संकल्प लिया था। मोदी के कार्यकाल में सुशासन पूरी तरह से लागू किया जा सकता है। संयुक्त राष्ट्र संघ समय तमाम विचारकों ने सुशासन को परिभाषित किया है। प्रभावी शासन, कानून का शासन, पारदर्शी और उत्तरदाई सरकार सुशासन के ही अंग हैं। किसी गुंडे मवाली या अनुचित कार्य करने वाले का शासन ना हो। उत्तरदाई होने के साथ जवाब देही शासन होना चाहिए, जिससे निर्णय लेने में देरी न हो। निर्णय में देरी विकट दलाली है।

देवमणि द्विवेदी, पूर्व विधायक/वरिष्ठ नेता भारतीय जनता पार्टी सुल्तानपुर

Related posts

सुल्तानपुर में अयोध्या जिले के युवक की संदिग्ध परिस्तिथियों में मौत: स्कार्पियो में पाया गया शव, पुलिस बोली- दुर्घटना में हुई मौत

सुल्तानपुर के इसौली विधायक के बिगड़े बोल, भगवा पर कटाक्ष, नकारात्मक सोच वालों की खत्म हो जाएंगी नस्लें।

सुल्तानपुर में प्रेमी युगल की थाने में हुई शादी: ग्रेजुएट है लड़की, लड़का शव का कराता है अंतिम संस्कार

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More